साइंस स्ट्रीम से 12वीं पास करने वाले ज्यादातर स्टूडेंट्स एमबीबीएस या बीडीएस जैसे कोर्स कर डॉक्टर बनना चाहते हैं. लेकिन कड़ी प्रतियोगिता और सीमित सीटों की वजह से हर किसी का ये सपना पूरा नहीं हो पाता है. ऐसे में कई छात्र पैरामेडिकल स्टडीज का ऑप्शन चुन सकते हैं. इस फील्ड का दायरा भी लागातर बढ़ता जा रहा है.
पैरामेडिकल कोर्स करने के बाद मेडिकल के क्षेत्र में एंट्री हो जाती है. इन कोर्स को करने के बाद करियर की संभावना तो अच्छी रहती ही है साथ ही सैलरी भी काफी अच्छी मिलती है. चलिए यहां हम आपको बताते हैं कि आखिर पैरामेडिकल कोर्स क्या है और इसमें क्या संभावनाएं हैं.
क्या है पेरामेडिकल साइंस
इन दिनों पैरामेडिकल प्रोफेशनल्स की डिमांड देश-विदेश में बढ़ती जा रही है. पैरामेडिकल साइंस एक प्रकार से मेडिकल साइंस के लिए आधार का काम करती है. इसके तहत कई विषय आते हैं जैसे स्पाइनल इंजरी मैनेजमेंट, फ्रेक्चर मैनेजमेंट, ऑब्सटेट्रिक्स, मैनेजमेंट ऑफ ब्रन्स एंड एसेसमेंट, इवैल्यूएशन ऑफ जनरल इंसिडेंट आदि. पैरामेडिकल संस्थान पैरामेडिसन में डिग्री से लेकर डिप्लोमा स्तर के कोर्स ऑफर करते हैं. खासबात ये है कि इसमें पत्राचार के साथ ही रेग्यूलर कोर्स दोनों के ही विकल्प हैं.
पैरामेडिकल कोर्स कर एलाइड हेल्थ केयर वर्कर के तौर किया जाता है काम किया जा सकता है. एलाइड हेल्थ केयर वर्कर आम तौर पर हेल्थ केयर वर्कर (नर्सिंग, मेडिसिन और फार्मेसी) से भिन्न होते हैं. इनमें डेंटल हाईजिनिस्ट, डायग्नोस्टिक मेडिकल सोनोग्राफर, डाइटिशियन, मेडिकल टेक्नोलॉजी, फिजिकल थेरेपिस्ट, रेडियोग्राफर, रेसपीरेटरी थेरेपिस्ट, ऑक्युपेशनल थेरेपिस्ट और स्पीच लैंग्वेज पैथोलॉजिस्ट को एलाइड हेल्थ केयर वर्कर के तौर पर जाना जाता है.

पैरामेडिकल कोर्स के लिए एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया

पैरामेडिकल का कोर्स करने के लिए स्टूडेंट्स के पास 12वीं या ग्रेजुएशन की डिग्री का होना अनिवार्य है.स्टूडेंट्स के पास बारहवीं में फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी सब्जेक्ट का होना भी जरूरी है.
पैरामेडिकल में ये हैं पॉपुलर कोर्सेज

  • फिजियोथेरेपी
  • ऑक्यूपेशनल थेरेपी
  • फॉर्मेसी
  • रेडियोलॉजी
  • नर्सिंग
  • प्रोस्थेटिक एंड ऑर्थोलिंक इंजीनियरिंग
  • लैब टेक्नीशियन
  • ऑप्टोमेट्री
  • डायलिसिस टेक्नोलॉजी
  • करियर की संभावना
  • पैरामेडिकल स्टाफ की काफी मांग अस्पताल से लेकर नर्सिंग होम्स और प्राइवेट क्लीनिक्स में रहती है. इसी वजह से स्टूडेंट्स अब पैरामेडिकल कोर्स करने के इच्छुक रहते हैं. इस कोर्स को करने के तुरंत बाद आसानी से 12 से 15 हजार रुपए की जॉब मिल जाती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here